loZnsokRed¨ #æ% loZ nsok% f”kokRedk%

f”kokfEcdk T;®fr"k

nSoK~ ia- ,e- ,y- nhf{kr

Astrological Solution

विद्या गुरुं प्रणम्यादौ ब्रह्मविष्णु महेश्वरम । जनकं जननीं पुण्यां शारदां जगदम्बिका ।। नवग्रहं भूमिदेवीम शिवचंद्र सुतेनतत । समाहृत्याण्यग्रन्थेभ्यः ज्योतिषतत्व विविच्यते ।।

About Us

In Narada Purana, it has been described that when Devarshi Narada visited King Himachal; there, on seeing his daughter Parvati (Ambika), he predicted that this girl would be married to a man "who would be wearing a bhaghambar, ghost haunting would dance around whom, and the snake decorated in his neck". Knowing this, King Himachal was very upset and he also made a great effort to stop this marriage, but due to the resolution of the austerity of Bhagwati Parvati (Boro Shambhu Naa to Rahoon Kawari), Ashutosh Lord Shiva had to marry Ambika.

Impressed & inspired by the prediction of Aadipurush of Astrology Devarrshi Narada, related to Shiv and Ambika; and with the blessings of Jagatguru Shri Swaroopanandji Saraswati ji, 'Shivambika Jyotish' was established in June 2011.

Astrologer, Devagya Pandit M.L. Dixit, retired from the Commercial Tax Department of the Government of Madhya Pradesh as Commercial Tax Officer; benefiting many people through proper scientific measures of obstructing planet effects (mortgages and obstructions) in the birth papers with the knowledge of numerology, palmistry and horoscope.

Note - 'Shivambika Jyotish' has been involved in working deeply on , the time of marriage, the horoscope matching, childhood/childbirth, and the condition and direction of the children's education, based on the horoscope. Any information based on scientific approach & acceptable accuracy, related to these topics can be made available on request.

नारद पुराण में यह वर्णन आया है कि देवर्षि नारद जब राजा हिमाचल के यहाँ गये तो उनकी पुत्री पार्वती (अम्बिका) को देखकर उन्होंने भविष्यवाणी की कि इस कन्या का विवाह ऐसे व्यक्ति से होगा जो बाघम्बर धारण करता होगा, भूत प्रेत जिसके आसपास नृत्य करते होंगे, जटाजूट धारी होगा, तथा गले में सर्प शोभित होगा। यह जानकर राजा हिमाचल बहुत परेशान हुए और उन्होंने इस विवाह को रोकने की यथेष्ट चेष्टा भी की, परन्तु भगवती पार्वती की तपस्या (बरों शम्भू न तो रहूँ क्वारी) के संकल्प के कारण अंततः आशुतोष भगवान शिव को अम्बिका से विवाह करना पड़ा।

ज्योतिष के आदिपुरुष देवर्षि नारद की भविष्यवाणी शिव एवं अम्बिका के विषय में होने के कारण इससे प्रेरणा स्वरुप एवं जगद्गुरु श्री स्वरूपानंदजी सरस्वती जी के आशीर्वाद से 'शिवाम्बिका ज्योतिष' की शुरुआत जून २०११ से की गयी।

ज्योतिषी, देवज्ञ पं. एम. एल. दीक्षित, मध्यप्रदेश शासन के वाणिज्यकर विभाग से वाणिज्यकर अधिकारी के पद से सेवानिवृत होकर, अंकज्योतिष, हस्तरेखा, एवं जन्मपत्रिका के ज्ञान के माध्यम से अनेकानेक लोगों के जन्मपत्रिका में स्थित रूकावट देने वाले ग्रहो (मारक एवं बाधक) का समुचित शास्त्रोक्त उपाय कर उन्हें लाभान्वित कर रहे है।

विशेष -'शिवाम्बिका ज्योतिष' विवाहकाल के निर्धारण एवं कुंडली के मेलापक, संतानहीनता/संतानप्राप्ति के योग तथा बच्चों की शिक्षा की दशा एवं दिशा पर अनुसंधानरत है तथा इन विषयों से सम्बंधित कोई भी जानकारी हमारे द्वारा उपलब्ध कराई जा सकती है।

  • “Millionaires don't use Astrology, billionaires do.”

    — J.P. Morgan

  • “There is no better boat than a horoscope to help a man cross over the sea of life.”

    — Varaha Mihira

  • “Find something you’re passionate about and keep tremendously interested in it.”

    — Julia Child

  • “So few people admit to belief in astrology, but I am yet to meet anyone who doesn't know their star sign.”

    — P.K.Shaw

  • “Who needs astrology? The wise man gets by on fortune cookies.”

    — Edward Abbey

Astrology

A horoscope represents the exact conditions of the constellations and planets, which were in the sky at the time of the birth of a person. These astronomical conditions are marked simply in the form of horoscope so that they can be analyzed.

oSfnd T;®fr"k

एक कुण्डली नक्षत्रों और ग्रहों की उन सटीक स्थितियों को दर्शाती है, जो जातक के जन्म के समय आकाश में थीं। इन खगोलीय स्थितियों को सरल रूप में कुंडली की सूरत में चिह्नित किया जाता है, ताकि उसका विश्लेषण किया जा सके।

Palmistry

Hand Line science is very ancient. Seeing the hand in ancient Vedas, evidence of calculation of the future is present. The palm lines have special significance in palmistry. These lines show the person's future, auspicious signs and inauspicious signs.

gLrjs[kk T;®fr"k

हस्त रेखा विज्ञान बेहद प्राचीन है। प्राचीन वेदों में भी हाथ देखकर भविष्य की गणना करने के साक्ष्य मौजुद हैं। हस्तरेखा शास्त्र में हथेली की रेखाओं का विशेष महत्व है। यह रेखाएं व्यक्ति का भविष्य, शुभ संकेत और अशुभ संकेत दर्शाती हैं।

Gemstone

According to Indian astrology, gems represent some or all of the planets. Man wearing gems has many benefits. The benefits of gems and other things depend on the planet related to the gem.

jkf'k jRu

भारतीय ज्योतिष शास्त्रानुसार रत्न किसी ना किसी ग्रह का प्रतिनिधित्व करते हैं। रत्नों का धारण करने से मनुष्य को कई लाभ होते हैं। रत्नों का लाभ और अन्य बातें रत्न से संबंधित ग्रह पर निर्भर करती हैं।

Muhurtha

Astrology is the science of time. The work started in the auspicious time is completed smoothly. There is no problem of any kind in it.

'kqÒ eqgwrZ

ज्योतिष शास्त्र काल शास्त्र है । शुभ मुहूर्त में प्रारम्भ किया गया कार्य निर्विघ्न रूप से शीघ्र ही सम्पन्न होता है । उसमें किसी प्रकार का कोई विघ्न नहीं पड़ता है ।

Know More

Pandit M L Dixit

दैवज्ञ पं. एम. एल. दीक्षित

Reserve an Appointment

v{kL; nq%[k®∙e;a KL;kuUne;a txr~ A vU/ka Òqoue~U/kL; çdk'ka rq lqp{kqoku~ AA

Contact Info

Reservation Form

WhatsApp